Megamenu

कौशल विकास और उद्यमिता 2015 पर राष्ट्रीय नीति

मंत्रालय, सरकार की “सबका साथ, सबका विकास” नीति और आने वाले वर्षों में हमारे देश की जनसंख्या के जनसांख्यिकीय प्रोफ़ाइल का लाभ उठाने के लिए समग्र मानव संसाधन विकास के प्रति इसकी प्रतिबद्धता का एक अभिन्न हिस्सा है। एक व्यापक और समग्र नीति दस्तावेज विकसित करना प्रक्रिया का एक अभिन्न अंग है। इसके लिए पहले से मौजूद राष्ट्रीय कौशल विकास नीति (एनपीएसडी), 2009 पर नए सिरे से विचार किए जाने की आवश्यकता है।

राष्ट्रीय कौशल विकास और उद्यमशीलता नीति, 2015 का उद्देश्य गति और मानक (गुणवत्ता) के साथ कौशलीकरण की चुनौती का सामना करना होगा। इसका उद्देश्य देश के भीतर की जाने वाली सभी कौशलीकरण गतिविधियों को एक समग्र ढांचा प्रदान करना होगा, ताकि उन्हें सामान्य मानकों के अनुरूप बनाया जा सके और कौशलीकरण को मांग केंद्रों से जोड़ा जा सके। उद्देश्य निर्धारित करने और अपेक्षित परिणाम प्राप्त करने के अलावा, विभिन्न संस्थागत ढांचे की पहचान करने का भी प्रयास किया जाएगा जो अपेक्षित परिणामों को प्राप्त करने में माध्यम के रूप में कार्य कर सकते हैं। राष्ट्रीय नीति मौजूदा संस्थागत व्यवस्थाओं के भीतर देश में कौशल विकास के प्रयासों को कैसे संयोजित किया जा सकता है, इस बारे में स्पष्टता और सामंजस्य प्रदान करेगी। यह नीति कौशल विकास को बेहतर रोजगार और उत्पादकता से जोड़ेगी।

राष्ट्रीय कौशल विकास और उद्यमशीलता नीति 2015 यहां उपलब्ध है। pdfडाउनलोड