Megamenu

लचीले समझौता ज्ञापन

यह योजना उद्योगों को उनकी कौशल निर्धारित आवश्यकताओं के अनुसार उम्मीदवारों को प्रशिक्षित करने की अनुमति देती है और प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षण की प्रक्रिया से गुजरने के लिए बाजार की मांग और नवीनतम तकनीक के साथ जुड़ने के लिए उद्योग वातावरण प्रदान करती है। इसे उद्योगों के साथ-साथ प्रशिक्षुओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए बनाया गया है। स्कीम नियोक्ता कौशल मॉडल के रूप में, भावी नियोक्ता (उद्योग) को स्थापित बुनियादी ढांचे, सुदृढ़ प्रशिक्षण सुविधाओं सहित, प्रशिक्षित संकाय के रूप में परिकल्पित करती है, भावी कर्मचारी तैयार करने हेतु श्रमबल के लिए उद्योग प्रशिक्षुओं को तैयार करती है।

स्कीम उद्योग अनुरूप और अनुकूलित पाठ्यक्रमों के लिए उद्योग की आवश्यकताओं को पूर्ण करती है, उद्योग प्रासंगिक सामग्री के लिए उद्योग को लचीले विकल्प पेशकश करती है। आईटीपी द्वारा तैयार इन पाठ्यक्रमों का उद्देश्य औद्योगिक प्रशिक्षण पर बल देना और रोजगार की संभावनाएं बढ़ाना हैं। आईटी/आईटीईएस और इसी तरह के क्षेत्रों के लिए विशुद्ध ऑनलाइन पाठ्यक्रम तैयार किए जाएं। कक्षा और उद्योग प्रशिक्षण सहित प्रशिक्षण की अवधि 6 माह से 24 महीने (2 वर्ष) तक है। आईटीपी और डीजीटी द्वारा संयुक्त रूप से आकलन किया जाता है, जबकि प्रशिक्षण का दायित्व अकेले आईटीपी पर है। प्रशिक्षित किए गए कुल सफल प्रशिक्षुओं में से कम से कम 50% की नियोजन सुनिश्चितता के साथ उद्योग व्यावहारिक और औपचारिक आकलन करता है।

प्रतिभागी संस्थाओं को औद्योगिक प्रशिक्षण भागीदार (आईटीपी) के रूप में डीजीटी के साथ समझौते या समझौता ज्ञापन करना आवश्यक है। आईटीपी उद्योग/संगठन, उद्योग समूह/संघ, कौशल विश्वविद्यालय हो सकता है। आईटीपी में निर्धारित मानदंडों से अधिक और उससे ऊपर के अपने प्रशिक्षुओं के चयन के लिए प्रशिक्षुओं की लचीली चयन क्षमता है। प्रवेश समय और प्रशिक्षण चक्र को लचीला बनाया गया है। उच्च रोजगार संभावनाओं के साथ उद्योग प्रासंगिक पाठ्यक्रमों में प्रशिक्षण, अनुभवी उद्योग विशेषज्ञों/व्यावसायिकों के साथ बातचीत और उस क्षेत्र के मूलभूत औद्योगिक वातावरण और नवीनतम उपकरणों के सहयोग से अनेक उद्योगों में रोजगार के अवसर बढ़ने के साथ-साथ प्रशिक्षुओं को लाभ हुआ है। सफल प्रशिक्षु सर्वोत्तम पद्धतियों, नवीनतम मशीनों, उपकरणों और साधनों के संपर्क के साथ उद्योग के लिए तैयार हैं।

1 जनवरी 2020 की स्थिति के अनुसार मार्च 2019 में जारी संशोधित योजना दिशानिर्देशों के अंतर्गत निम्नलिखित समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए हैं:

  • मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड, गुरुग्राम
  • सेंचुरियन प्रौद्योगिकी और प्रबंधन विश्वविद्यालय, ओडिशाli>
  • सुजुकी मोटर्स, गुजरात
  • एनएमडीसी, छत्तीसगढ़
  • कौशल्य कामेश्वर, झारखंड
  • जीटीटीसी, बेंगलुरु
  • नवगुरुकुल, बेंगलुरु