Megamenu

रोजगार मेला

कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय (एमएसडीई), भारत सरकार के तत्वावधान में राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) देश में रोजगार पहलों को गति देने हेतु बेरोजगार युवाओं को निजी क्षेत्र में उपयुक्त रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए पूरे देश में रोज़गार मेलों का आयोजन करता रहा है। रोज़गार मेले जैसी पहल के साथ, सरकार निजी /औद्योगिक सेक्टर में एक समान वृद्धि सुनिश्चित कर रही है। सरकार की भागीदारी तथा निवेश करने का वादा करने वाले बड़े कॉर्पोरेट्स के साथ राज्यों में उद्योग के विकास की संभावना का कोई अंत नहीं है।

एनएसडीसी रोज़गार मेला 1/2-दिवसीय कार्यक्रम है, जिसमें अनेक नियोजक और जॉब सिकर्स नौकरी हेतु आवेदन करने और साक्षात्कार के उद्देश्य से एक साथ आते हैं। सटीक रूप से परिभाषित, रोजगार मेला जॉब सिकर्स तथा नियोजकों की बैठक को तेजी से ट्रैक करने के लिए एक रोजगार कार्यनीति है। रोज़गार मेले के कार्यकरण के लिए, एनएसडीसी रोज़गार मेले हेतु नियोजकों अर्थात निजी कंपनियों के लिए संबंधित क्षेत्र कौशल परिषदों (एसएससी) तथा प्रधानमंत्री कौशल केंद्रों (पीएमकेके) से सहायता मांगता है। आमतौर पर, एक रोज़गार मेले में 10-12 उच्च आर्थिक वृद्धि क्षेत्रों के औसतन 40-50 नियोजक शामिल होते हैं। इन सेक्टरों की पहचान आमतौर पर युवाओं की आकांक्षा और लक्षित राज्य अथवा आस-पास के क्षेत्रों में उद्योगों की उपलब्धता के आधार पर की जाती है।

ये रोज़गार मेले आमतौर पर राष्ट्रीय कौशल अर्हता ढांचा (एनएसक्यूएफ) प्रशिक्षण तथा प्रमाणित उम्मीदवारों सहित 8वीं/10वीं/12वीं पास, आईटीआई, डिप्लोमा, स्नातक आदि युवाओं की शैक्षणिक योग्यता वाले 18-35 वर्ष के युवाओं की आवश्यकता पूरी करते हैं। प्रिंट विज्ञापन, बल्क एसएमएस, सोशल मीडिया सहित विभिन्न चैनलों के माध्यम से और रोज़गार मेले के जिलों में तथा आसपास के कॉलेज और विश्वविद्यालय स्तर पर कार्यशालाओं के माध्यम से रोज़गार मेले हेतु जॉब सिकर्स में सचेतना पैदा की जाती है तथा उन्हें मेले में जुटाया जाता है।

रोज़गार मेले में आमतौर पर अन्य गतिविधियों के साथ-साथ नव कौशल विकास प्रशिक्षण (पीएमकेके/पीएमकेवीवाई), मुद्रा ऋण सुविधा पटल तथा कौशल प्रदर्शनी (जहां एसएससी अपने संबंधित सेक्टरों में प्रशिक्षण मॉडल, उपकरण, जॉब रोलों का प्रदर्शन करते हैं) के अंतर्गत युवाओं के पंजीकरण हेतु जॉब सिकर्स और उनके माता-पिता के लिए परामर्शी सत्र, कौशल मेलों शामिल होते हैं। एनएसडीसी रोज़गार मेले के अलावा, क्षेत्र कौशल परिषद, प्रधानमंत्री कौशल केंद्र, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना प्रशिक्षण भागीदारों जैसी एनएसडीसी की संबंधित एजेंसियां भी अखिल भारतीय आधार पर 18-35 वर्ष के युवाओं के लिए विभिन्न पैमाने और मात्रा में रोज़गार मेले आयोजित करती हैं। 1 जनवरी, 2019 से 31 दिसंबर, 2019 तक, एनएसडीसी, एसएससी, पीएमकेके, पीएमकेवीवाई, शुल्क-आधारित मॉडल प्रशिक्षण भागीदारों आदि द्वारा 28 राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों में 700 से अधिक रोज़गार मेले आयोजित किए गए हैं। रोजगार मेलों में लगभग 2.18 लाख पंजीकरण और लगभग 93 हजार उम्मीदवारों का चयन निजी कंपनियों द्वारा किया गया है।

Varanasi Rozgar Mela (12-13 Feb 2020)Bikaner Rozgar Mela (12-13 Oct 2019)

अधिक जानकारी और रोज़गार मेला डैशबोर्ड के लिए कृपया वेबसाइट देखें https://nsdcindia.org/rozgarmela.