Megamenu

उन्नत व्यावसायिक प्रशिक्षण स्कीम (एवीटीएस)

कार्यरत उद्योग कामगारों के कौशल का उन्‍नयन और अद्यतन करने के लिए 1977 से एवीटीएस प्रचालनरत है। इस स्‍कीम को तत्‍कालीन डीजीई एंड टी, श्रम मंत्रालय {(अब प्रशिक्षण महानिदेशालय (डीजीटी), कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय} द्वारा डीजीई एंड टी के अंतर्गत तत्‍कालीन 6 उन्नत प्रशिक्षण संस्‍थानों (एटीआई) और 15 राज्‍य सरकारों के 16 आईटीआई में यूएनडीपी/आईएलओ के सहयोग से 1977 में प्रारंभ किया गया था। इस स्कीम के अंतर्गत चुनिंदा कौशल क्षेत्रों में एक से छह सप्ताह की अवधि वाले अल्पकालिक मॉड्यूलर पाठ्यक्रमों के जरिए प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। औद्योगिक स्थापनाओं की विशिष्ट आवश्यकताओं के अनुरूप टेलर-मेड पाठ्यक्रम भी ऑफर किए जाते हैं। 3.5 लाख से अधिक औद्योगिक कामगारों/तकनीशियनों ने एनएसटीआई (पूर्व में एटीआई) में सितंबर 2007 से प्रशिक्षण सुविधाओं का उपयोग किया है। विश्व बैंक की वित्तीय सहायता से अतिरिक्त क्षेत्रों में प्रशिक्षण सुविधाएं एटीआई में सृजित की गई थी और मौजूदा प्रशिक्षण सुविधाओं को सुदृढ़ भी किया गया था।

एनएसटीआई (रामनाथपुरम) (पूर्व में एटीआई-ईपीआई) हैदराबाद की स्थापना 1974 में स्वीडिश अंतर्राष्ट्रीय विकास प्राधिकरण (एसआईडीए), आईएलओ की सहायता से की गई थी और देहरादून में दूसरा एनएसटीआई (तत्‍कालीन एटीआई-ईपीआई) की स्थापना, अल्पकालिक और दीर्घकालिक दोनों पाठ्यक्रमों का ऑफर करके विशेषकर इलेक्ट्रॉनिक और प्रोसेस इंस्ट्रूमेंटेशन के क्षेत्र में, उद्योगों/संगठनों की प्रशिक्षण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए की गई है।

पाठ्यक्रमों के साथ डीजीटी के अंतर्गत एनएसटीआई pdfडाउनलोड